राजनांदगांव: छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले की खैरागढ़ विधानसभा सीट में उप चुनाव की सुगबुगाहट तेज हो गई है, जहां एक तरफ राजनीतिक दलों ने कार्यकर्ताओं के साथ बैठकें शुरू कर दी है, वहीं दूसरी तरफ संभावित दावेदारों ने भी अपने दौरे तेज कर दिए हैं। हालांकि अभी चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं हुआ है, लेकिन माना जा रहा हैं कि मार्च महीने में ही चुनाव की घोषणा हो सकती है।

राजनांदगांव जिले की 6 विधानसभा सीटों में से एक खैरागढ़ विधानसभा सीट क्रमांक 73 में खैरागढ़ राजपरिवार से जोगी कांग्रेस के युवा विधायक देवव्रत सिंह ने जीत हासिल की थी। स्वास्थ्य खराब होने के कारण सिंह का आक्सिमक निधन हो गया था। इसके बात से यह सीट खाली है। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा था कि दूसरे राज्यों के साथ ही चुनाव आयोग खैरागढ़ के लिए भी तारीखों का ऐलान कर देगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। अब खैरागढ़ के लिए अलग से चुनाव की तारीख आने वाली है। हाल ही में खैरागढ़ नगर पंचायत का चुनाव संपन्न हुआ है, जिसें अध्यक्ष और उपाध्यक्ष टॉस के माध्यम से कांग्रेस ने जीता है।

15 मार्च के बाद कभी भी चुनाव की घोषणा हो सकती है, इसे देखते हुए विधानसभा सीट के दावेदारों के दौरे शुरू हो गए है। क्षेत्र में नेताओं की लगातार सक्रियता बनी हुई है। कांग्रेस से पद्मादेवी सिंह के साथ साथ गिरवर जंघेल, विनोद ताम्रकर जैसे सक्रिय नेता लगातार जनसंपर्क कर रहे हैं, वहीं बीजेपी से जिला पंचायत उपाध्यक्ष विक्रांत सिंह से लेकर पूर्व संसदीय सचिव कोमल जंघेल एवं गंडई के बीजेपी नेता व जनपद पंचायत के पूर्व उपाध्यक्ष खम्मन ताम्रकर भी लोगों के बीच जा रहे हैं।