महासमुंद में आज जिला अस्पताल सहित सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और उप स्वास्थ्य केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं के हीमोग्लोबिन की जांच की जाएंगी॥ जाँच निःशुल्क होगी। कलेक्टर निलेश कुमार क्षीरसागर ने बीते बुधवार को समय सीमा की बैठक में हीमोग्लोबिन जांच के निर्देश दिए थे। उन्होंने जिले के सभी गर्भवती महिलाओं व उनके परिजनों से अपील की कि वे हीमोग्लोबिन की जांच अवश्य करवायें।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.आर.बंजारे ने पत्र जारी कर सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं की हीमोग्लोबिन जांच कर उपचार कराने के लिए कहा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ बंजारे ने बताया कि लगभग 25000 गर्भवती महिलाओं के हीमोग्लोबिन जांच का लक्ष्य रखा गया हैं।

ये भी पढ़ें: डेढ़ साल की मासूम का सफेद खून देख डॉक्टर भी रह गए हैरान, जांच के लिए भेजा लंदन

उन्होंने बताया कि अगले शुक्रवार 23 सितंबर को 0 से 5 साल तक के बच्चों और शुक्रवार 30 सितंबर को 11 से 19 वर्ष तक की बालिकाओं व किशोरियों के हीमोग्लोबिन जांच की जाएगी। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को आहार से संबंधित जानकारी दी जाएगी गई। इसमें अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, महिला बाल विकास का सहयोग लिया जाएगा।

ये भी पढ़ें: स्वच्छता ही सेवा अभियान का शुभारंभ, स्वच्छता रथ को मंत्री रविंद्र चौबे ने दिखाई हरी झंडी

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.आर.बंजारे ने जिले की गर्भवती महिलाओं से अपील की है कि अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र जाकर हीमोग्लोबिन की जांच करवायें। उन्होंने कहा कि हीमोग्लोबिन एक प्रकार का प्रोटीन है जो लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाता है। हीमोग्लोबिन में कमी होने के कारण शरीर में खून की मात्रा घट जाती है। खून की मात्रा घटने पर एनीमिया का खतरा बढ़ जाता है। कुछ मामलों में एनीमिया जानलेवा भी साबित हो सकता है।