नई दिल्लीः कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके 18 साल के ऊपर के लोग अब कॉर्बेवैक्स बूस्टर डोज ले सकते हैं। कोवैक्सीन या कोविशील्ड की दोनों डोज लगवाने वालों के लिए केंद्र सरकार ने बायोलॉजिकल ई लिमिटेड के कॉर्बेवैक्स को आपात स्थिति में एक विषम बूस्टर डोज के रूप में प्रतिबंधित उपयोग की मंजूरी दी है। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को इसकी पुष्टि की है। टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह ने पिछले महीने 18 साल से अधिक उम्र के वयस्कों के लिए एक विषम बूस्टर के रूप में कॉर्बेवैक्स की सिफारिश की थी।

हैदराबाद की फार्मास्युटिकल कंपनी बायोलॉजिकल ई लिमिटेड के कॉर्बेवैक्स कोविड 19 वैक्सीन को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने इस साल 4 जून को एक विषम बूस्टर के रूप में अनुमोदित किया था। यह भारत में पहला ऐसा टीका है जिसे हेटरोलोग के रूप में अनुमोदित किया गया है।

बायोलॉजिकल ई लिमिटेड के ​​परीक्षण डेटा से पता चला है कि कॉर्बेवैक्स बूस्टर खुराक ने प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में महत्वपूर्ण वृद्धि की और एक प्रभावी बूस्टर के लिए आवश्यक मानको को दर्शाया है। बता दें कि कॉर्बेवैक्स कोविड 19 वैक्सीन को बायोलॉजिकल ई. लिमिटेड ने टेक्सास चिल्ड्रन हॉस्पिटल और बायलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन के सहयोग से तैयार किया है।