रायपुर: प्रदेश में बिजली विभाग ने प्रीपेड मीटर लगाने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए सभी संबंधित विभागों को जरूरी दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं। दरअसल विद्युत विभाग के पास बिजली चोरी और फॉल्स रिडिंग की शिकायत काफी बढ़ गई है। इन समस्याओं को समाप्त करने के लिए ही सभी कनेक्शन में प्रीपेड मीटर लगाने का निर्णय किया गया है ।

इस स्मार्ट सुविधा प्रदेश में लोगों को अब मोबाइल की तरह बिजली के लिए भी पहले रिचार्ज कराना होगा। रिचार्ज कराने के बाद ही उपभोक्ताओं को बिजली मिल सकेगी। इससे जहां उपभोक्ताओं को अधिक बिलिंग और बिल पटाने जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलेगा तो वहीं आर्थिक संकट से जूझ रही बिजली कंपनियों के पास बिजली खरीदने के लिए एडवांस में पैसा भी उपलब्ध हो सकेगा।

अधिकारियों ने बताया कि प्रीपेड मीटर में एक छोटा सा मॉडम लगा रहेगा। जिसे सर्वर के साथ साथ उपभोक्ताओं के मोबाईल से कनेक्ट कर दिया जाएगा। इससे उपभोक्ताओं को हर समय जानकारी मिलते रहेगी। यानी उनके पास कितना बैलेंस बचा है और वे कितनी यूनिट बिजली का उपयोग कर सकते हैं। वहीं रिचार्ज खत्म होने से पहले ही सर्वर के जरिए उपभोक्ताओं के फोन पर बैलेंस रिचार्ज करने का मैसेज चला जाएगा।