जगदलपुरः देश की आजादी के 75 साल बाद पहली बार धुर नक्सल प्रभावित इलाके अंतागढ़ से ट्रेन दौड़ेगी। शनिवार को सांसद मोहन मंडावी अंतागढ़ दुर्ग पैसेंजर ट्रेन को हरी झंडी दिखाएंगे। अंतागढ़ दुर्ग पैसेंजर ट्रेन अंतागढ़ से शनिवार को दोपहर 1 बजकर 35 मिनट पर रवाना होगी और 4 बजकर 40 मिनट पर दुर्ग पहुंचेगी।

एसएसबी की सुरक्षा में रेलवे ने इसका काम सालभर पहले ही पूरा कर ट्रायल कर लिया था लेकिन कोरोना की वजह से यात्रियों के लिए सुविधा शुरू नहीं की जा सकी थी। अंतागढ़ तक पैसेंजर ट्रेन शुरू होने के बाद बीएसपी यहां से मालगाड़ी के जरिए आयरन ओर भी भेज सकेगा। नक्सलियों की मांद और घने जंगलों के बीच गुजरने वाली इस ट्रेन की सुरक्षा के लिए लेवल क्रांसिंग नहीं दी गई है। सात जगहों पर लेवल क्रांसिग की जगह पुल के नीचे और ऊपर सड़क तैयार की गई है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अप्रैल 2018 को रायपुर को भानुप्रतापपुर से जोड़ने वाली डेमू ट्रेन को हरी झंडी दिखाई। इसके बाद इसे केवटी तक बढ़ा दिया गया। अब इसे धुर नक्सल प्रभावित इलाके अंतागढ़ से जोड़ा गया है। इसके साथ ही दल्लीराजहरा से जगदलपुर तक करीब 309 किलोमीटर की रेलवे लाइन बिछाई जा रही है, जो बस्तर को रायपुर से जोड़ेगी।